Haryana

पेयजल काे तरसे, कहीं दाे महीने से बूंद तक नहीं आई तो कहीं सप्लाई का शेड्यूल नहीं, खरीदकर पी रहे पानी

बैग न्यूज़ – हिसार

अग्रसेन कॉलोनी में रोड को पक्का करते मजदूर।

शहर की कई काॅलाेनियाें में लाेग पानी के लिए तरस रहे हैं। लाेगाें का कहना है कि करीब दाे महीने से पानी नहीं आ रहा। विभाग के अधिकारियाें के पास जाते हैं ताे कहते हैं टेंशन क्याें ले रहे हाे आ जाएगा पानी। लाेगाें का कहना है कि पानी सप्लाई का काेई टाइम फिक्स नहीं है। ज्यादातर रात के समय ही पानी आ रहा है। कभी-कभी ताे रात काे दाे बजे पानी की सप्लाई छाेड़ दी जाती है। महिलाओं काे रात-रात भर जागकर सप्लाई का इंतजार करना पड़ता है। पानी की सप्लाई भी एक ही बार आती है।

आलम यह है कि लाेगाें काे पानी खरीदकर पीना पड़ रहा है। लाेगाें का आराेप है कि कुछ एरिया में विभाग के अधिकारियाें ने नई पाइपलाइन बिछाई है लेकिन लेवल करना भूल गए। जिससे कहीं पानी ठीक आ रहा है ताे थाेड़ी दूरी पर ही पानी की बूंद काे भी तरस रहे हैं।

इसके अलावा जब पाइप लाइन बिछाने के लिए सड़क खोदी गई थी तब विभाग के किसी भी अधिकारी ने सुध नहीं ली। जब सड़क ठीक हो गई तो फिर से आपूर्ति ठीक करने के लिए सड़क खोदी जाएगी। भास्कर टीम ने तीन काॅलाेनियाें में जाकर लोगों से बात की मुद्दे सामने आए।

ग्राउंड रिपोर्ट : शहर में काॅलाेनियाें के लाेग परेशान और अफसर कहते हैं टेंशन मत कीजिए

अग्रसेन काॅलाेनी – यहां लॉकडाउन के बाद से पानी की समस्या बनी हुई है। जिसकी शिकायत के बाद करीब दाे माह पहले ही विभाग द्वारा नई पाइप लाइन बिछा दी गई थी लेकिन शायद विभागीय कर्मचारी पाइप लाइन का लेवल करना भूल गए। जिस वजह से काॅलाेनी के करीब 60 घराें में हर दिन पानी काे लेकर झगड़े हाे रहे हैं। वहीं, लाेगाें का कहना है उनकी काॅलाेनी में पानी एक ही वक्त आ रहा है। वह भी केवल दस मिनट के लिए। इसके अलावा पानी की सप्लाई का फिक्स समय न हाेने के कारण महिलाओं काे सुबह दाे बजे जागकर सप्लाई के लिए इंतजार करना पड़ता है। वहीं महिलाओं का कहना है उनके आज तक अपनी पार्षद अंबिका शर्मा का केवल नाम सुना है देखा नही है। जब भी पार्षद के पास काॅलाेनी की महिलाएं फाेन करती है ताे उनके पति सुशील शर्मा फाेन उठाकर कहते हैं मुझे बताओं क्या समस्या है। पार्षद से बात नहीं हाे सकती।

न्यू माॅडल टाउन: पहले दूषित पानी आता था, अब कई घरों में नहीं आई सप्लाई

न्यू माॅडल टाउन में पानी सप्लाई न हाेने की वजह से खाली बर्तन लेकर खड़ी महिलाएं।
न्यू माॅडल टाउन में पानी सप्लाई न हाेने की वजह से खाली बर्तन लेकर खड़ी महिलाएं।

यहां तीन चार महीने पहले गंदे पानी की सप्लाई की शिकायत पर विभाग ने नई पाइप लाइन दबाई थी। नई पाइप लाइन दबाने के बाद कई लाेगाें के घराें में पानी की सप्लाई ही बंद हाे गई। जिस कारण काॅलाेनी के करीब 80 घराें के लाेगाें काे घराें में लगे हैंडपम्प का प्रयाेग करना पड़ता है। स्थानीय निवासी बलजीत सिंह, सत्यबाला, टीना व प्रवीन जैन का कहना है कि उनके यहां पानी की सप्लाई का समय सुबह तीन बजे का है। जिस कारण पूरी काॅलाेनी के लाेगाें काे सुबह जल्द उठकर पानी का इंतजार करना पड़ता है। लाेगाें का आराेप है कि उन्हाेंने जेई व एसडीओ काे काफी बार शिकायत की है। लेकिन अधिकारी हर बार कहते हैं क्याें टेंशन लेते हाे आ जाएगा पानी।

मैं कठघरे में नहीं खड़ा हूं, जो हर सवाल का जवाब दूं : जेई

मुझे नहीं पता अग्रसेन काॅलाेनी काॅलाेनी में क्या समस्या है। मेरे पास केवल एक शिकायत आई है। मैं गली-गली जाकर समस्या थाेड़ी ही चैक करूंगा। मैं काेई काेर्ट के कठघरे में नहीं खड़ा हूं जाे आपके हर सवाल का जवाब दूंगा।
मनाेज पवार, अग्रसेन काॅलाेनी जेई पब्लिक हेल्थ।

चार पांच बार कॉलोनी में जेई को भेज चुका : एसडीओ

पाइप लाइन अमृत याेजना के तहत नगर निगम द्वारा बिछाई गई थी। पानी की सप्लाई सुबह साढ़े तीन बजे छाेड़ी जाती है। सप्लाई शाम काे नहीं आती है। हमारे पास अभी तक काेई शिकायत नहीं पहुंची है। मैं चार-पांच बार जेई मनाेज काे काॅलाेनी में भेज चुका हूं।

कंवर पाल, एसडीओ, पब्लिक हेल्थ।

वार्ड का कोई काम नहीं रुका

वार्ड का काेई काम नहीं रुका है। लाेगाें काे अपनी समस्या हल से मतलब है। चाहे मैं जाऊ या मेरे पिताजी। महिला पार्षद काे इसलिए नहीं भेज सकते क्याेंकि घर में और भी काम हाेते हैं।

सुशील शर्मा, पार्षद अंबिका शर्मा के पति।

15 दिन पहले समस्या थी

करीब 15 दिन पहले काॅलाेनी में पानी की सप्लाई काे लेकर समस्या थी। जिसके बाद कर्मचारियाें काे बुलाकर समस्या का हल करवा दिया था लेकिन अब हाल में मेरे पास काेई शिकायत नहीं है। मैं क्वारेंटाइन हूं। काॅलाेनी में दाेनाें वक्त पानी की सप्लाई करवा दी गई थी। अगर फिर भी काेई समस्या है ताे समाधान करवा दिया जाएगा।

– जगमाेहन मित्तल, पार्षद

मैं नहीं मान सकता

माॅडल टाउन में पानी की समस्या हाेना मैं नहीं मान सकता। क्योंकि करीब 15 दिन पहले हमने खुद जाकर वहां समस्या का हल किया है। आप इस बारे में पार्षद से भी बात कर सकते हैं।

-निशांत, जेई, पब्लिक हेल्थ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s