Haryana

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आयुष काढ़ा, गिलोय जूस तुलसी और आंवला मुरब्बा की डिमांड 60 फीसद तक बढ़ी

bag news – Hisar

संक्रमण काल में आयुर्वेद पद्धति अपनाने की तरफ लौट रहा लोगों का रुझान

रोग प्रतिरोधक क्षमता जितनी मजबूत होगी उतना ही रोगों से बचाव संभव है। इसको गंभीरता से लेते हुए लाेगाें ने खुद को कोरोना महामारी से बचाने के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रखना शुरू कर दिया है। खासकर इम्युनिटी बूस्टर या रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक उत्पादों का सेवन करना शुरू कर दिया है। पिछले छह माह में आयुष काढ़ा, शहद, च्यवनप्राश, हर्बल टी, गिलोय जूस, तुलसी और आंवला मुरब्बा की डिमांड 60 फीसद तक बढ़ी चुकी है।

पंसारियों की मानें ताे कोरोना की वजह से आयुर्वेद पद्धति पर विश्वास बढ़ा है। बाजार में काफी उत्पाद मुहैया हैं जोकि आपको इम्युनिटी बूस्टर में लाभदायी हैं। काफी औषधी हर घर में मुहैया है लेकिन उन्हें कूटना, मिश्रित करना, उबालकर रस तैयार करने इत्यादि का झंझट कोई नहीं चाहता है। इसलिए बाजार में तैयार काढ़ा इत्यादि उत्पाद उपलब्ध हैं। हालांकि कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने पर ऐलोपैथी पद्धति से इलाज का अलग फायदा है।

मधुमेह पेशेंट्स मांग रहे करेला और जामुन का जूस

जो लाेग पहले से गंभीर बीमारियों से ग्रस्त हैं उन्हें संक्रमण से ज्यादा बचने की सलाह दी जा रही है। खासकर दिल रोग व मधुमेह ग्रस्त रोगियों को। अभी तक कोविड से जितनी मौत हुई हैं उनमें पहले से ही अन्य रोग ग्रस्त शामिल हैं। पंसारी शॉप पर सेल्समैन मदनलाल ने बताया कि काेराेना महामारी में लाेगाें का आयुर्वेद पर विश्वास बढ़ा है। इम्युनिटी बूस्टर उत्पाद के अलावा मधुमेह रोगी करेला जामुन जूस की ज्यादा डिमांड कर रहे हैं। वहीं, पंसारी अमित ने बताया कि महामारी में लाेग इम्युनिटी बढ़ाने के लिए ग्लाेय, तुलसी इत्यादि की मांग कर रहे हैं जोकि 60 फीसद तक बढ़ी है। कई लोग तो खांसी व बलगम से बचने को उत्पाद खरीद रहे हैं। उनका मानना है कि जब खांसी व बलगम से बचेंगे तो फेफड़ों पर असर नहीं पड़ेगा जिससे श्वास की दिक्कत नहीं होगी। कोरोना से बचाव होगा। गुनगुना पानी के सेवन की आदत भी बढ़ रही है।

आयुर्वेद में इम्युनिटी बूस्टर से रोगों से बचाव संभव : डॉ. वर्मा

कोरोना काल में आयुर्वेद के प्रति लोगों का विश्वास बढ़ा है। घरों में भी आयुर्वेद है। महामारी के माहौल व्यवसाय की बजाय समाजसेवा की सोच के साथ रोगियों को आयुर्वेदिक उत्पाद मुहैया करवाने चाहिए। रोज काफी कॉल्स आती हैं जिसमें लोग पूछते हैं कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए क्या करें और किन औषधी का सेवन करें। आयुर्वेद में इम्युनिटी बूस्टर से लेकर रोगों से बचाव के लिए औषधी हैं, जिनसे बीमारियों से राहत संभव है। -डॉ. सुखबीर वर्मा, आयुर्वेदिक ऑफिसर, आयुष विभाग।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s