Haryana

कोरोना से रिकवर हो चुके 10 फीसदी मरीजों को पोस्ट कोविड सिंड्रोम

बैग न्यूज़ – रोहतक

फाइल फोटो।

प्रदेश में 1,54,451 मरीज कोरोना से रिकवर हो चुके हैं। कोविड-19 की स्टेट नोडल अधिकारी का दावा है कि औसतन 10 फीसदी रिकवर लोग पोस्ट कोविड सिंड्रोम का शिकार हो रहे हैं। इनमें बदन दर्द, भूख न लगना, लंग्स फ्राइब्रोसिस, एंडोक्राइन डिस्टर्बेंस, सिर में दर्द रहना, थोड़ा सा टहलने पर थकावट महसूस होना, एंग्जायटी व डिप्रेशन जैसी समस्याएं मिल रही हैं।

पीजीआईएमएस की पोस्ट कोविड ओपीडी में अभी तक 70 ऐसे मरीज हैं जो कोरोना से रिकवर हो चुके हैं, वो इस तरह की समस्याएं लेकर पहुंच चुके हैं। इनमें 50 फीसदी लोगों ने पोस्ट कोविड में होने वाली समस्याएं गिनाईं हैं। अब अनुमान है कि प्रदेश में करीब 15 हजार के करीब पोस्ट कोविड के मरीज हो सकते हैं, जिन्हें उचित ट्रीटमेंट की जरूरत है। हरियाणा स्वास्थ्य विभाग की ओर से भी पोस्ट कोविड ओपीडी चलाने की गाइडलाइंस जारी की हुई है।

कैसे नई दिक्कतों का कर रहे सामना

कोरोना से रिकवर होने के बाद सांस लेने में दिक्कत महसूस होती रही

केस-1 रोहतक शहर निवासी व बैंक में कार्यरत 48 वर्षीय डिप्टी मैनेजर को कोरोना संक्रमण हो गया था। संक्रमण का सीधा अटैक उनके फेफड़ों पर हाेने की वजह से हालत बिगड़ गई। वे 14 दिन पीजीआई के डे केयर आईसीयू में भर्ती रहे। रिकवर होने के बाद उन्हें बदन दर्द, सांस लेने में दिक्कत और कमजोरी महसूस होने जैसी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी रहने लगी। वे पीजीआई की पोस्ट कोविड में पहुंचे।

60 वर्षीय बुजुर्ग चिकित्सक एक माह आईसीयू में ऑक्सीजन पर रहे

केस-2 60 वर्षीय बुजुर्ग चिकित्सक को कोरोना संक्रमण हुआ था। उनकी पहले एंजियोप्लास्टी हो चुकी थी। संक्रमण का अटैक सीधे उनके फेफड़ों पर था। हालत गंभीर होने पर वो एक माह तक डे केयर के आईसीयू में भर्ती रहे। चिकित्सकों ने इलाज जारी रखा और वो रिकवर कर गए। लेकिन अब उन्हें कमजोरी महसूस, सिर में दर्द रहने, लंग्स फाइब्रोसिस और बदन दर्द, भूख न लगने की समस्या रहने लगी है।

पोस्ट कोविड ओपीडी शुरू करने की इसलिए जरूरत

पीजीआईएमएस के पल्मोनरी क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग के चिकित्सक डॉ. मंजूनाथ बताते हैं कि वर्तमान में हर जिले के सिविल अस्पताल में पोस्ट कोविड ओपीडी संचालित किए जाने की जरूरत है। ताकि रिकवर कर चुके मरीजों की स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का डाटा तैयार कर स्टडी हो सके। आईसीएमआर भी पोस्ट कोविड मरीजों का डाटा ले स्टडी कर रहा है।

यहां शुरू हो सकती है पोस्ट कोविड ओपीडी

  • पं. बी डी शर्मा पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज, रोहतक।
  • बीपीएस गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज फॉर वीमेन, खानपुर कलां (सोनीपत)।
  • कल्पना चावला गवर्नमेंट कॉलेज, करनाल।
  • महाराजा अग्रसेन मेडिकल कॉलेज, अग्रोहा, हिसार, इनके अलावा भी कई कॉलेज हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s